परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर कार्बेट टाइगर रिजर्व (सीटीआर) में 20 से ज्यादा बाघों के शिकार की आशंका जताई है।

DEHRADUN: Uttarakhand forest minister Harak Singh Rawat has directed the head of the Forest Force (HOFF) to initiate an inquiry into the tiger poaching case, asking it to give the report within one

देहरादून, [केदार दत्त]: बाघ संरक्षण में अहम भूमिका निभा रहे उत्तराखंड से इस साल भी अच्छी खबर आने की उम्मीद है। विश्व प्रसिद्ध कार्बेट टाइगर रिजर्व (सीटीआर) में एक माह तक चली टाइगर मॉनीटरिंग के दरम्

कुमाऊं में मानव-वन्यजीव संघर्ष में दोनों गंवा रहे जानकुमाऊं में मानव-वन्यजीव संघर्ष में दोनों गंवा रहे जान

देश में वर्ष 1995 से अब तक के परिदृश्य को देखें तो हर साल ही औसतन 46 बाघों को शिकारियों व तस्करों ने निशाना बनाया। ऐसे में बाघों पर संकट बढ़ गया है।

भारतीय वन्यजीव संस्थान अप्रैल तक हिम तेंदुए मल के नमूनों की जांच कर अपनी रिपोर्ट सौंप देगा। इससे पता चल जाएगा कि उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र में कितने हिम तेंदुए हैं।

Sighting of swamp deer population, outside their sole habitat and protected zone of Jhilmil Jheel Conservation Reserve in the state, across Ganges had been heartening news for the wildlife lovers.

NAINITAL: Kumaon’s western forest circle constitutes one-third of the tiger population of the country which is outside of tiger reserves, with 130 big cats living in the region, according to a new

NAINITAL: Over 140 leopards and tigers have been declared maneaters in Uttarakhand in just 15 years, according to the state forest officials.

Over hundred rhinos, 45 tigers and 85 elephants across the country have fallen prey to poachers in the last three years, the Lok Sabha was informed on Tuesday.

Pages